शनिवार, अगस्त 5

आपात्कालीन चिकित्सा का मौलिक अधिकार

माननीय उच्चतम न्यायालय का निर्णय : 23.02.2007

वाद संख्या : अपील (सिविल) 919 वर्ष 2007

माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्णय के अनुसार सभी दुर्घटना ग्रस्त (विशेषकर सड़क पर वाहन दुर्घटना के शिकार ) व्यक्तियों को व जान लेवा हमले आदि में घायल हुए व्यक्तियों को अस्पताल या अन्य किसी चिकित्सा केन्द्र में लाये जाने पर यह उस अस्पताल / चिकित्सा केन्द्र के लिये अनिवार्य है कि वह उस घायल व्यक्ति को तुरंत प्राथमिक चिकित्सा प्रदान करें। यदि ऐसा आवश्यक लगे तथा घायल व्यक्ति की शारीरिक स्थिति इसकी अनुमति देती हो तो उसे केवल प्राथमिक चिकित्सा प्रदान करने के बाद ही किसी बेहतर चिकित्सा सुविधा युक्त अस्पताल में या स्वास्थ्य केन्द्र में स्थानान्तरित किया जा सकता है तथा चिकित्सा व्यय / पुलिस को सूचना देने की औपचारिकताओं को पूरा करने हेतु कहा जा सकता है।

यदि आप किसी दुर्घटना में घायल व्यक्ति के आस-पास हैं और उसे अस्पताल पहुंचाना चाहते हैं तो ऐसा करने में कतई संकोच न करें। आपकी जिम्मेदारी घायल को अस्पताल पहुंचाने के साथ ही समाप्त हो जाती है।

पुलिस को सूचना देने की, प्राथमिक चिकित्सा प्रदान करने की जिम्मेदारी अस्पताल की ही है।

घायल व्यक्ति को चिकित्सा प्राप्त करने के इस अधिकार के बारे में अपने मित्रों, परिचितों व स्वजनों को भी अवश्य ही बतायें ताकि वे जान सकें कि ऐसी किसी आपदा के क्षणों में उनको क्या करना चाहिये और वे अस्पताल में चिकित्सकों से क्या - क्या अपेक्षायें रख सकते हैं।

कृपया यह जानकारी अधिकतम लोगों तक पहुंचाने में सहयोग करें।


English Version


Right to Emergency Care

Date of Judgment : 23.02.2007
Case No. : Appeal (Civil) 919 of 2007

The Supreme Court has ruled that all injured persons especially in the case of road traffic accidents, assaults, etc., when brought to a hospital / medical centre, have to be offered first aid, stabilized and shifted to a higher centre / government centre if required. It is only after this that the hospital can demand payment or complete police formalities. In case you as a bystander, wish to help someone in an accident, please go ahead and do so. Your responsibility ends as soon as you leave the person at the hospital.

The hospital bears the responsibility of informing the police, first aid, etc.

Please do inform your family and friends about these basic rights so that we all know what to expect and what to do in the hour of need.

Please forward to as many as possible.....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो विशेष पसन्द किये गये !