मंगलवार, अगस्त 8

सहारनपुर में रेल यातायात

सहारनपुर जंक्शन (SRE Jn.) 

रेल यातायात की दृष्टि से सहारनपुर जंक्शन उत्तरी रेलवे के प्रमुख ब्राड गेज़ जंक्शन में से एक है और सभी मेल, एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेन यहां रुकती हैं।   इतना ही नहीं, सहारनपुर स्टेशन पर ही डीज़ल का बहुत बड़ा डिपो भी है अतः यहां से होकर गुज़रने वाले डीज़ल इंजन को इंधन की आपूर्ति सहारनपुर जंक्शन से होती है। सहारनपुर जंक्शन भारत में रेल यातायात आरंभ होने के समय से ही महत्वपूर्ण स्थान माना जाता रहा है।  मुंबई से पेशावर (अब पाकिस्तान)  रेल मार्ग पर फ्रंटियर मेल मुंबई के कोलाबा स्टेशन से 1 सितंबर 1928 को पहली बार रवाना हुई थी और सहारनपुर जंक्शन से होते हुए ही गयी थी।  इसका अर्थ ये हुआ कि मुम्बई से दिल्ली तक 1393 किमी और दिल्ली से पेशावर 2335 किमी, कुल मिला कर 3728 किमी !  एक समय था जब फ्रंटियर मेल को ब्रिटिश साम्राज्य की सबसे तेज़ और सबसे अधिक लोकप्रिय ट्रेन का दर्ज़ा हासिल था।  भारत विभाजन के बाद से ये ट्रेन सिर्फ अमृतसर तक ही जाती है।


दूसरा एक अत्यन्त महत्वपूर्ण रेल मार्ग अमृतसर - हावड़ा रूट है और इस रूट की सभी ट्रेन सहारनपुर जंक्शन पर रुकती हैं।  स्वाभाविक ही है कि सहारनपुर से देहरादून, हावड़ा (कलकत्ता), अमृतसर, मुंबई, अहमदाबाद, जयपुर, केरल, चंडीगढ़, जम्मू, अजमेर, पुरी आदि जाने वाली रेलगाड़ी उपलब्ध हैं !  इनमें से कुछ सहारनपुर जंक्शन से उपलब्ध हैं और कुछ टपरी जंक्शन से।

सहारनपुर जंक्शन की समय सारणी   

कुछ प्रमुख ट्रेन जो सहारनपुर जंक्शन से होकर गुज़रती हैं वे यहां देखी जा सकती हैं -

टपरी जंक्शन (TPZ Jn.)
सहारनपुर जंक्शन के अलावा यहां टपरी जंक्शन भी है जिसकी महत्ता पिछले कुछ वर्षों में बढ़ी है।   वज़ह ये है कि देहरादून के उत्तराखंड की राजधानी बनाने के बाद से लंबी दूरी की कुछ नयी सुपरफास्ट ट्रेन दिल्ली होते हुए जाने लगी हैं।  इन रेलगाड़ियों को लक्सर और सहारनपुर जंक्शन पर न्यूनतम 20 मिनट रोकना पड़ता था ताकि रेलगाड़ी को विपरीत दिशा में लेजाने के लिये इंजन को आगे से हटा कर सबसे आखिरी वाली कोच से जोड़ा जा सके।

सहारनपुर जंक्शन से टपरी जंक्शन की दूरी 6.4 किमी या 4 मील है।   सहारनपुर शहर से टपरी जंक्शन जाने के लिये घंटाघर, हस्पताल चौराहा, विश्वकर्मा चौक आदि से टैंपो मिलते हैं।  रात के समय ये संभव है कि टैम्पो वाला ये कहते हुए कि वापसी में खाली आना पड़ेगा, कोई सवारी नहीं मिलती है, आपसे दोनों तरफ का किराया चार्ज कर ले।  यदि शेयर टैक्सी के तौर पर आप टैम्पो में बैठते हैं तो वह टपरी से विश्वकर्मा चौक तक केवल 10 रुपये प्रति सवारी लेता है।   पूरा टैम्पो ले जायेंगे तो 100 रुपये से 150 रुपये तक जहां भी सौदा पट जाये!

यदि आप दिल्ली की ओर से सहारनपुर आ रहे हैं और आपकी ट्रेन टपरी से देहरादून / रुड़की की ओर घूमने वाली है तो आपके पास टपरी से सहारनपुर शहर तक आने के लिये टैंपो का विकल्प तो उपलब्ध है ही, अक्सर लोग अपने घर के किसी सदस्य को भी कह देते हैं कि स्कूटर, मोटर साइकिल या कार लेकर आ जाये और उनको लिवा ले जायें।  कुछ शरीफ लोग आपको लिफ्ट भी दे सकते हैं।   हो सकता है, आपके सौभाग्य से टपरी स्टेशन पर ही कोई पैसेंजर ट्रेन भी खड़ी मिल सकती है जो सहारनपुर की ओर जा रही हो।  

टपरी स्टेशन की समय सारणी 

टपरी स्टेशन से आने / जाने वाली गाड़ियों की समय सारणी यहां उपलब्ध है !

लूप लाइन

सहारनपुर में लूप लाइन ताकि रुड़की से आ रही ट्रेन बिना सहारनपुर जंक्शन तक आये देवबन्द की ओर जा सके।  

ऐसी ही एक लूप लाइन लक्सर जंक्शन के आउटर पर भी ! 

इस समस्या का हल रेलवे ने ये निकाला कि एक लूप लाइन लक्सर जंक्शन के आउटर के पास बनाई गयी और दूसरी  सहारनपुर जंक्शन के आउटर के पास ।  अब देहरादून / हरिद्वार से दिल्ली होते हुए जाने वाली कुछ रेलगाड़ियां बिना लक्सर जंक्शन तक जाये रुड़की पहुंच जाती हैं और बिना सहारनपुर जंक्शन तक आये टपरी जंक्शन से होते हुए दिल्ली की ओर निकल जाती हैं।  सहारनपुर वासियों को इन ट्रेन के उपयोग की सुविधा देने के लिये टपरी जैसे मामूली से स्टेशन को अपग्रेड किया गया, प्लेटफार्म बनाया गया है और ओवरब्रिज बनाया गया है।  यही नहीं, देहरादून से दिल्ली की ओर जाने वाली सभी रेलगाड़ियों को यहां पर हाल्ट भी दिया गया है।  अतः जिन सहारनपुर वासियों को जयपुर, अजमेर, सोमनाथ, द्वारिका, ओखा, पुरी, उत्कल आदि जाना होता है, वह सहारनपुर जंक्शन के बजाय टपरी जंक्शन से इन ट्रेन से अपना आरक्षण कराते हैं और वहीं से ये ट्रेन पकड़ते हैं।   अस्तु !

सहारनपुर - शाहदरा रेल लाइन

टपरी जंक्शन का एक और भी उपयोग है।  सहारनपुर से शाहदरा जाने वाली ब्रॉड गेज़ रेलवे लाइन भी टपरी से ही आरंभ होती है और रामपुर मनिहारान, शामली, बड़ौत, बागपत, लोनी होते हुए शाहदरा (दिल्ली) में जाकर समाप्त होती है।   सहारनपुर से दिल्ली जाने वाली कुछ ट्रेन वाया देवबन्द, मुज़फ्फरनगर, मेरठ, गाज़ियाबाद होते हुए दिल्ली जाती हैं और कुछ शामली, बड़ौत होते हुए दिल्ली जाती हैं।  अगर आप दिल्ली या दिल्ली से भी आगे जाने वाले हैं तो आपको इस बात से कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि ट्रेन शामली से होकर जायेगी या मुज़फ्फरनगर, मेरठ, गाज़ियाबाद से ।  पर अगर आपको सहारनपुर - दिल्ली के बीच में ही कहीं से ट्रेन पकड़नी हो या उतरना हो तो आपको अवश्य देखना पड़ेगा कि आपकी ट्रेन का रूट कौन सा है।

रुड़की देवबन्द की प्रस्तावित रेल लाइन

रुड़की से मुज़फ्फर नगर का 42 किमी है जिसे कम करके 27 किमी करने के उद्देश्य से रुड़की - देवबन्द रेल मार्ग पर कार्य चल रहा है।  प्रधानमंत्री स्वयं 400 करोड़ रुपये के इस प्रकल्प की प्रगति की हर मास समीक्षा कर रहे हैं।  हमारे देश में कोई भी ऐसा प्रकल्प सबसे पहले जमीन अधिग्रहण के मुद्दे पर उलझा दिया जाता है और उसमें विलंब भी होता है और बजट भी बढ़ता रहता है।

सहारनपुर आने के लिये या सहारनपुर से जाने के लिये आपको यदि उपलब्ध रेलगाड़ियों का पता करना है तो आप इस साइट पर जायें जो आपको रेलवे आरक्षण की भी सुविधा देती है!  यदि आपको विभिन्न उपलब्ध विकल्पों के बारे में खोजबीन करनी है, फिलहाल रिज़र्वेशन नहीं कराना है तो  ये साइट  बहुत सुविधाजनक अनुभव होगी, यद्यपि ये निजी वेबसाइट है, भारतीय रेलवे की  सरकारी वेबसाइट नहीं है।  

              

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो विशेष पसन्द किये गये !