सोमवार, अगस्त 21

नगर आयुक्त ने आधी रात तक जनता की समस्याएं सुनीं!

सहारनपुर - 19 अगस्त -  अगर सहारनपुर के नगर आयुक्त गौरव वर्मा और नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. गीता राम रमन,  द सहारनपुर डॉट कॉम की पहल पर आधी रात तक व्यापारियों के साथ ठोस कचरे के प्रबन्धन को लेकर मंथन करते दिखाई दें, तो ये सहारनपुर के लिये अच्छे दिनों की आहट का ही संकेत हो सकता है।


अगर सहारनपुर के व्यापारीगण और बुद्धिजीवी नगर निगम के सर्वोच्च अधिकारी को अपनी परेशानियां गिनाएं और वह अधिकारी पूरी सहानुभूति के साथ उन समस्याओं को सुनें और उनके शीघ्र सार्थक समाधान का विश्वास दिलाएं तो हमें विश्वास होने लगता है कि जनता और प्रशासन एक टीम के रूप में भी कार्य कर सकते हैं और संवाद के सहारे हर समस्या का निदान किया जा सकता है।



द सहारनपुर डॉट कॉम और सहारनपुर उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में सहारनपुर नगर निगम के नये नगर आयुक्त गौरव वर्मा ने कहा कि उन्होंने  22 जुलाई को सहारनपुर नगर निगम का कार्यभार ग्रहण किया था और पहले ही दिन से वह सहारनपुर की अनेकानेक समस्याओं को समझने और  उनकी जड़ तक पहुंचने का प्रयास करते रहे हैं और अब वह समस्याओं को काफी कुछ समझने लगे हैं और उनके निदान के लिये कार्य योजना बना चुके हैं।   जहां तक आपकी स्थानीय स्तर की समस्याओं का प्रश्न है, आपकी गली और आपके मुहल्ले या बाज़ार की समस्या का प्रश्न है - इन समस्याओं को आप से बेहतर कोई नहीं जान सकता और उन समस्याओं का समाधान क्या है, ये भी आप से बेहतर कोई नहीं सुझा सकता !  हम अगर बिना आपको सुने और समझे समस्या का समाधान करने की कोशिश करेंगे तो असफलता ही हाथ लगेगी।  आप  इन छोटी - छोटी समस्याओं के समाधान के लिये आगे बढ़िये, हमारा पूरा सहयोग और मार्गदर्शन आपको मिलेगा।  इसके लिये,  हमारे और आपके बीच में निरन्तर सार्थक संवाद बनाये रखना परम आवश्यक है।"   नगरायुक्त ने नगर निगम को स्वच्छ बनाने हेतु अपनी कार्ययोजना की भी जानकारी दी और कहा कि सभी दुकानों से अब शाम को कूड़ा एकत्र किया जायेगा।   उन्होंने नगर निगम द्वारा बन्द ट्रक खरीदे जाने और कॉम्पैक्टर यंत्र के बारे में भी बताया ताकि कूड़ा सड़कों पर बिखरता हुआ न जाये और बहुत सारा कूड़ा बहुत थोड़े से स्थान पर एकत्र हो सके।



द सहारनपुर डॉट कॉम की पहल पर सहारनपुर उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल (रजि.) द्वारा ये गोष्ठी मुख्यतः सहारनपुर में ठोस कचरे की समस्या के समाधान के लिये आयोजित की गयी थी।   द सहारनपुर डॉट कॉम के संस्थापक अध्यक्ष और संपादक सुशान्त सिंहल ने ’कचरे से दौलत तक’ विषय पर बनाये गये वृत्त चित्र व पावर प्वाइंट प्रेज़ेंटेशन के माध्यम से समस्या की गहराई और हमारे सामने मौजूद चुनौतियों का विश्लेषण किया।

समस्याओं के समाधान का ज़िक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सहारनपुर में पूरे प्रदेश का नेतृत्व करने की क्षमता है, ये बात बार बार सिद्ध हो चुकी है।  सहारनपुर में पांवधोई नदी की सफाई का अभियान शुरु किया गया तो उसकी गूंज उत्तर प्रदेश सरकार तक पहुंची और वहां से 24 जिलों के जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गये कि जैसे सहारनपुर में पांवधोई नदी की सफाई की जा रही है, वैसे भी आप भी अपने जनपद में नदियों का सफाई अभियान चलायें।    यही नहीं, जब  उत्तर प्रदेश में चुनाव की बारी आई तो एक बार फिर सहारनपुर ने प्रदेश में सर्वाधिक मतदान प्रतिशत देकर दिखा दिया कि सहारनपुर अन्य जनपदों से कुछ अलग है, कुछ बेहतर करने की क्षमता रखता है।  सुशान्त सिंहल ने कहा कि सहारनपुर उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल की उत्साही टीम अगर साथ दे तो असंभव से प्रतीत होने वाले लक्ष्य भी हासिल किये जा सकते हैं।   सहारनपुर में व्यस्त सड़कों पर ठोस कचरा पड़ा हुआ दिखाई दे रहा है जो एनसेफलाइटिस, चिकनगुनिया, हैजा, डेंगू, मलेरिया, पीलिया जैसे रोगों को जन्म देने वाला है।   हमें सबको मिल कर प्रयास करना है कि आर्गेनिक वेस्ट को हम सड़क तक न आने दें और इसे खाद बनाने में जुटी हुई संस्थाओं को ही दें।  इसी प्रकार जिस कूड़े को रि साइकिल किया जा सकता है, उसे गली - गली में घूमने वाले कबाड़ियों को ही दें।   बायो-मैडिकल वेस्ट के लिये भी सरकार ने सभी चिकित्सालयों, नर्सिंग होम, मैटरनिटी होम व क्लीनिक को आदेश दिया हुआ है कि वह स्पेशलिस्ट एजेंसी को ही बायो मैडिकल वेस्ट दें ताकि उसका सुरक्षित रीति से निष्पादन किया जा सके।   इसके बाद जो थोड़ा बहुत कूड़ा बच रहेगा, उसे नगर निगम को डंपिंग साइट पर भेजने के लिये दिया जाना चाहिये।

समर्पण संस्था जिसे नगर निगम ने 15 वार्ड में घर-घर से कूड़ा लेकर खाद बनाने का दायित्व सौंपा हुआ है, की ओर से बोलते हुए अमित त्यागी ने बताया कि उनकी संस्था को नगर निगम ने खाद बनाने हेतु भूमि भी दे दी है और वाहन भी दे दिये हैं।   कुछ आवासीय कॉलोनी में प्राइवेट सफाईकर्मी हमारे द्वारा कूड़ा लिये जाने का विरोध कर रहे हैं और मार-पीट पर उतारू हो जाते हैं।  नगर निगम और इस क्षेत्र के वासियों को इस समस्या का समाधान करना है।

सहारनपुर उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के महानगर अध्यक्ष विवेक मनोचा ने कहा कि हमारी विभिन्न बैठकों में प्रत्येक सरकारी विभाग के अधिकारी आ चुके हैं पर ये पहला अवसर है कि नगर निगम के नगर आयुक्त और नगर स्वास्थ्य अधिकारी हमारे बीच में उपस्थित हैं।   हमें लगने लगा था कि नगर निगम हमारे प्रश्नों के उत्तर देने से बचना चाहती है, संवाद के द्वार बन्द रखना चाहती है।  पर आज नगर आयुक्त गौरव वर्मा और नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. गीता राम रमन को अपने बीच पाकर हम सब हर्षित हैं और इसके लिये द सहारनपुर डॉट कॉम को साधुवाद देते हैं कि उन्होंने ठोस कचरा प्रबन्धन हेतु एक बैठक का आयोजन करने की पहल की और नगर आयुक्त को भी उसमें भाग लेने हेतु निमंत्रित किया गया।  विवेक मनोचा ने कहा कि व्यापारी वर्ग सरकार को और नगर निगम को टैक्स देने में पीछे नहीं हटता है पर जमीन पर कुछ काम होता हुआ दिखाई तो दे।  यदि नगर निगम की कार्यप्रणाली में पारदर्शिता आती है,  मनमानी, भ्रष्टाचार और काहिली पर लगाम लगती है तो मैं अपने समस्त व्यापारी बन्धुओं की ओर से विश्वास दिलाता हूं कि हम भी सहयोग करने में पीछे नहीं हटेंगे।  

कार्यक्रम का संचालन व्यापार मंडल के सचिव सुरेन्द्र मोहन चावला ने किया।  व्यापार मंडल की ओर से दोनों अधिकारियों को तिरंगा पटका पहना कर और स्मृति चिह्न देकर उनका सम्मान किया गया।   इस अवसर पर नगरायुक्त गौरव वर्मा, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. गीता राम रमन, विवेक मनोचा, सुरेन्द्र मोहन चावला, राजेन्द्र गुप्ता, सुशान्त सिंहल, नीना धींगड़ा, अमित त्यागी के अलावा महेश नारंग, तजेन्द्र कपूर, एस.के. दुआ, राजकुमार विज, नीरज जैन, राजीव मदान आदि उपस्थित रहे।    



  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो विशेष पसन्द किये गये !