शुक्रवार, दिसंबर 22

सहारनपुर वासियों को मिले महापौर और पार्षद

एक लंबे इंतज़ार के बाद अन्ततः सहारनपुर नगर निगम को उसके जन-प्रतिनिधि मिल गये हैं।  अभी हाल ही में दि. 29 नवंबर को सहारनपुर नगर निगम के महापौर और 70 पार्षदों के लिये चुनाव संपन्न हुआ जिसमें भाजपा के टिकट से चुनाव लड़ रहे संजीव वालिया को सहारनपुर का प्रथम महापौर चुने जाने का गौरव प्राप्त हुआ। उनके अलावा भाजपा के ही 28 पार्षद और भी चुने गये।  शेष पार्षद बसपा, सपा, कांग्रेस पार्टियों से हैं  या निर्दलीय हैं।

सहारनपुर की जनता को 9 वर्ष के बाद नगर निगम में अपने प्रतिनिधि मिले हैं तो स्वाभाविक रूप से उनसे अपेक्षाएं भी बहुत हैं।  इस समय केन्द्र में व उत्तर प्रदेश में भाजपा की ही पूर्ण बहुमत वाली सरकारें मौजूद हैं ऐसे में नगर निकाय में भी भाजपा को बहुमत मिल जाने के बाद किसी को भी अब कोई बहाना बनाने का मौका नहीं है कि हम क्या करें – प्रदेश व केन्द्र में विरोधी दल की सरकार हैं जो हमें काम नहीं करने देतीं।  विकास के रास्ते में रोड़ा अटकाती हैं।  अब दो सहारनपुर नगर निगम को 2 नहीं बल्कि तीन  इंजन उपलब्ध हैं।  यदि अब भी सहारनपुर की समस्याओं का समाधान नहीं होगा तो आखिर कब होगा?

द सहारनपुर डॉट कॉम ने सहारनपुर नगर निगम के नव-निर्वाचित जन-प्रतिनिधियों से मिलने, उनसे बातचीत करने का सिलसिला आरंभ किया है ताकि हम समझ सकें कि अपने क्षेत्र की समस्याओं के समाधान .के लिये वह क्या – क्या और किस प्रकार  करना चाहते हैं।  इस क्रम में आज हम आपको मिलवा रहे हैं – वार्ड नं. 17 की पार्षद श्रीमती पिंकी गुप्ता से ..

17 नवंबर 1969 को जन्मी पिंकी गुप्ता वर्ष 1990 में माधव नगर निवासी श्री विवेक गुप्ता की सहधर्मिणी बन कर माधव नगर की निवासिनी बनीं !  समाज सेवा में रुचि के चलते आप 2002 में भाजपा की सदस्य बनीं। उनकी कर्मठता को देखते हुए उनको सेक्टर महामंत्री, जिला महामंत्री महिला मोर्चा, महानगर मंत्री,  जिला अध्यक्ष सांस्कृतिक प्रकोष्ठ, महानगर उपाध्यक्ष के अलावा प्रांतीय परिषद की सदस्य आदि दायित्व दिये गये जिनको उन्होंने बखूबी निभाया।

अब जब नगर निगम के चुनाव के समय भाजपा ने सेक्टर 17 से पार्षद के रूप में एक महिला प्रत्याशी की खोज आरम्भ की तो स्वाभाविक ही है कि उसी क्षेत्र की निवासी श्रीमती पिंकी गुप्ता का चयन किया गया।  जाना पहचाना कर्मठ व्यक्तित्व सामने देख कर मतदाताओं ने भी अपना विश्वास उनमें जताया और इस प्रकार नगर निगम के सेक्टर 17 की पहली महिला पार्षद के रूप में भाजपा की पिंकी गुप्ता हमारे सामने हैं। श्रीमती पिंकी गुप्ता से जब हमने बात आरंभ की और पहला सवाल आया कि सेक्टर 17 में कौन – कौन की कालोनियां शामिल हैं और वहां क्या – क्या समस्या हैं।   पिंकी गुप्ता ने बताया कि वार्ड नं. 17 में पुराना माधव नगर, गढ़ी मलूक नं. 1, मालवीय नगर, इन्द्रपुरी, तिलक नगर और गीतांजलि विहार आदि क्षेत्र आते हैं।  इन क्षेत्रों में गढी मलूक नं. 1, मालवीय नगर, इन्द्रपुरी आदि क्षेत्र पिछड़े हुए और गरीबी से ग्रस्त माने जाते हैं जहां समस्याओं के अंबार लगे हुए हैं।   जब हमने पूछा कि किस प्रकार की समस्याएं तो वह बोलीं  कि चलिये आपको अपने क्षेत्र में लिये चलती हूं।  आपको मेरा कार्य क्षेत्र भी दिखाई दे जायेगा, क्षेत्रवासी भी और वहां की समस्याएं भी !  अपने पति श्री विवेक गुप्ता को साथ लेकर वह स्कूटर पर आगे आगे निकल पड़ीं और मुझे भी आने के लिये इशारा कर दिया।

नगर निगम वार्ड 17 में भ्रमण


हमारा पहला पड़ाव था – डा. अंबेदकर पार्क, गढ़ी मलूक नं. 1 !  जब हम वहां पहुंचे तो कुछ युवक वहां क्रिकेट खेल रहे थे, कुछ अन्य व्यक्ति अलाव जला कर गोल घेरा बना कर हाथ  सेंक रहे थे। अपनी पार्षद  श्रीमती पिंकी गुप्ता को आया देख कर उन्होंने बड़े आदर से उनको नमस्कार किया और पार्क की व्यवस्था में सुधार को लेकर बातचीत शुरु होगयी।  पार्क के बीचों बीच एक हाई मास्ट लाइट का पिलर मौजूद है, उसके अलावा भी बिजली के कुछ खंभे लगे हुए हैं पर क्षेत्रवासियों ने बताया कि रात को यहां अंधेरा रहता है और असामाजिक तत्वों की बहार आई रहती है।  गेट और चारदिवारी की लोहे की ग्रिल कई जगह से टूटी पड़ी है।  पिंकी गुप्ता ने उन युवकों को उत्साहित करते हुए कहा कि इस पार्क का कायाकल्प हो सकता है पर शुरुआत सफाई से आप को ही करनी पड़ेगी।  आप सब थोड़ा थोड़ा समय हर रोज़ लगा कर इस पार्क की सफाई की जिम्मेदारी अपने कंधों पर लो तो हम नगर निगम से कह कर यहां पर लाइट, ग्रिल, गेट के अलावा बच्चों के लिये कुछ झूले आदि लगवाने की कोशिश करते हैं।  ये ग्रिल और गेट असामाजिक तत्वों ने तोड़े हैं, अपने पार्क की चौकसी तो आप सब को ही करनी पड़ेगी।  सभी युवाओं ने सहमति जताते हुए कहा कि इस पार्क की सफाई तो हम तीन-चार दिन में ही लग कर कर देंगे।

द सहारनपुर डॉट कॉम की पहल पर श्रीमती पिंकी गुप्ता की ओर से एक और प्रस्ताव उन युवकों को दिया गया कि यदि आप एक कमरे की व्यवस्था कर सकते हैं तो हम कौशल विकास केन्द्र आरम्भ करना चाहेंगे जिसमें इच्छुक शिक्षा छात्र-छात्राओं को निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जा सके। इस प्रस्ताव का बड़े उत्साह से स्वागत किया गया।


इसके बाद हम गढ़ी मलूक में मंदिर के बगल में स्थित गली में घुसे जहां पर पानी की टंकी, एक सीवर लाइन, शौचालय आदि के साथ काफी सारी खाली जगह मौजूद है।  वहां के निवासियों ने इस स्थान पर रविदास मंदिर की स्थापना की मांग की तो द सहारनपुर डॉट कॉम के अध्यक्ष सुशान्त सिंहल ने उन लोगों को समझाया कि आपके घर के बाहर आपके दो भव्य मंदिर पहले से ही मौजूद हैं। इतनी बड़ी जगह यहां उपलब्ध है तो इसमें एक कम्यूनिटी सेंटर की मांग कीजिये। यदि एक सामुदायिक केन्द्र यहां बन पाता है तो आप सब लोगों को बहुत सुविधा हो जायेगी। आप अपने कार्यक्रम आराम से यहां करते रह सकेंगे। वैसे भी सरकार मंदिर – मस्जिद गुरुद्वारे नहीं बनाती है, ये सब तो जनता ही बना सकती है।



वहां से हम बढ़ चले मालवीय नगर की ओर  जहां पर लगभग हर घर में भैंस पाली जाती हैं और दूध का व्यापार होता है।  उन लोगों की शिकायत थी कि उनके मैदान में जल भराव की समस्या है।  पिंकी गुप्ता ने उनसे भी यही कहा कि आप लोगों ने इस मैदान को कूड़ाघर का स्वरूप दे दिया है।  आप सब निश्चय कर लीजिये कि यहां कूड़े का एक तिनका भी नहीं डालेंगे तो हम महापौर महोदय को यहां लेकर आयेंगे और इस मैदान को एक सुन्दर पार्क के रूप में विकसित करने के लिये उनके सामने प्रस्ताव रख सकते हैं।  वहां के निवासियों ने जब कहा कि यहां से कोई कूड़ा लेकर नहीं जाता तो पिंकी गुप्ता ने नगर निगम के इस क्षेत्र के सफाई सुपरवाइज़र को फोन  करके बुलाया और कहा कि इस क्षेत्र में कूड़ेदान की व्यवस्था होनी चाहिये और उसे नियमित रूप से खाली कराते रहें।

इस अवसर पर श्रीमती पिंकी गुप्ता का जिस प्रकार से क्षेत्रवासियों ने दिल खोल कर स्वागत किया, उनसे अपनी समस्याएं कहीं, उनकी बात ध्यान से सुनी और उनके सुझावों पर अमल करने का वायदा किया उसे देख कर लगा कि जमीन से जुड़ी हुई कार्यकर्ता, खास तौर पर महिला कार्यकर्त्ता को यदि जिम्मेदारी दी जाये तो वह वास्तव में बहुत कुछ करने में सक्षम हो सकती है।  घर की सारी व्यवस्था महिलाओं के हाथ में रहती हैं अतः सुधार के संदेश उन महिलाओं तक सार्थक रूप से पिंकी गुप्ता जैसी महिला ही पहुंचा सकती हैं।

हम श्रीमती पिंकी गुप्ता को बधाई देते हैं कि नगर निगम के वार्ड 17 की पार्षद के रूप में उनको व्यापक जन समर्थन प्राप्त है और वह अपने कार्यकाल की अवधि में अपने कार्यक्षेत्र में आमूल चूल परिवर्तन लाना चाहती हैं। अपनी दोनों पुत्रियों को उच्च शिक्षा दिलाने वाली पिंकी गुप्ता की स्वाभाविक इच्छा है कि उनके कार्यक्षेत्र में एक भी बच्चा ऐसा नहीं हो जो स्कूली शिक्षा से वंचित हो। इससे भी आगे बढ़ कर वह चाहती हैं कि वह अपने क्षेत्र के वयस्क महिलाओं – पुरुषों के लिये भी सांध्यकालीन कक्षाओं की व्यवस्था करा सकें ताकि इन निरक्षर महिलाओं पुरुषों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन दिखाई दें। द सहारनपुर डॉट कॉम श्रीमती पिंकी गुप्ता की इस भावना का हृदय से आदर करता है और इस अभियान में सार्थक सहयोग देने का वायदा भी करता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो विशेष पसन्द किये गये !